Wednesday, 28 March 2012

351_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

दृश्य में दृष्टा का भान एवं दृष्टा में दृश्य का भान हो रहा है ।
इस गड़बड़ का नाम ही अविवेक या अज्ञान है । दृष्टा को
दृष्टा तथा दृश्य को दृश्य समझना ही विवेक या ज्ञान है ।

 Pujya Asharam Ji Bapu

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...