Monday, 27 February 2012

259_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

अपनी ही कृति से तुम गुरु को नजदीक या दूर अनुभव करते हो। ब्रह्मज्ञानी न तो किसी को दूर धकेलते हैं, न ही नजदीक लाते हैं। तुम्हारी श्रद्धा और व्यवहार ही तुम्हें उनसे नजदीक या दूर होने का एहसास कराते हैं।
Pujya asharam ji bapu 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...