Saturday, 18 February 2012

232_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

बहते संसार के
सुख-दुःख,
आकर्षण-विकर्षण में
चट्टान की नाईं
सम,निर्लिप्त रहना ही बहादुरी है।
 Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...