Thursday, 2 February 2012

186_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

मुक्ति और बन्धन तन और मन को होते है। मैं तो सदा मुक्त आत्मा हूँ।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...