Tuesday, 7 February 2012

203_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

कभी न छूटे पिण्ड दुःखों से।
जिसे ब्रह्म का ज्ञान नहीं।।
एक दुःख नहीं, हजार दुःख मिटा दो, फिर भी कोई न कोई दुःख रह जाता है। जब प्राप्ति होती है, तब हजार विघ्न आ जायें फिर भी उद्विग्न नहीं करते, सुख में स्पृहा नहीं कराते।
Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...