Saturday, 21 April 2012

393_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

भौतिक पदार्थों को सत्य समझना,
उनमें आसक्ति रखना, दुख-दर्द व
चिंताओं को आमंत्रण देने के समान
है । अतः बाह्य नाम-रूप पर अपनी
शक्ति व समय को नष्ट करना यह
बड़ी गलती है ।
Pujya Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...