Saturday, 14 January 2012

140_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

These 12 positions are one set or round of one surya namaskar. We should do it 12 times or 12 rounds. Before starting each surya namaskar we should chant one mantra of surya and next time another one. Mantra we should chant in first position of every surya namaskar. So, we have 12 mantras for 12 surya namaskar.

यह मुद्राएं सूर्य नमस्कार की हैं। इन सभी मुद्राओं को क्रम से करने पर एक सूर्य नमस्कार पूर्ण होता है। हमें प्रतिदिन प्रातःकाल बारह बार सूर्य नमस्कार करने चाहिए। प्रत्येक सूर्य नमस्कार की पहली मुद्रा में सूर्य भगवान् का एक मंत्र उच्चारण करना चाहिए और अगले सूर्य नमस्कार को आरंभ करते हुए दूसरा मंत्र। बारह सूर्य नमस्कार करने के लिए नीचे सूर्य के बारह मन्त्र दिये गये हैं।
ॐ मित्राय नम:॥१॥
Om mitraay namah |1|

ॐ रवये नम:॥२॥
Om ravaye namah |2|

ॐ सूर्याय नम:॥३॥
Om suryay namah |3|

ॐ भानवे नम:॥
Om bhaanave namah |4|

ॐ खगाय नम:॥५॥
Om khagaay namah |5|

ॐ पूष्णे नम:॥६॥
Om pushne namah |6|

ॐ हिरण्यगर्भाय नम:॥७॥
Om hiranyagarbhay namah |7|

ॐ मरीचये नम:॥८॥
Om marichaye namah |8|

ॐ आदित्याय नम:॥९॥
Om aadityaay namah |9|

ॐ सवित्रे नम:॥१०॥
Om savitre namah |10|

ॐ अर्काय नम:॥११॥ 
Om arkaay namah |11|

ॐ भास्कराय नम:॥१२॥
Om bhaskaraay namah |12|
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...