Sunday, 8 January 2012

115_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

संगी साथी चले गये सारे कोई न निभियो साथ।
कह नानक इह विपत में टेक एक रघुनाथ।।
जब भगवान के सिवाय सब बेकार लगे तो समझो कि वह पहली भूमिका पर पहुँचा है । उसके लिए विघ्न-बाधाएँ साधन बन जाएँगी । विघ्न-बाधाएँ जीवन का संगीत है । विघ्न-बाधाएँ नहीं आयें तो संगीत छिड़ेगा नहीं
 Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...