Saturday, 22 December 2012

981_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

हाथ-से-हाथ मसलकर, दाँत-से-दाँत भींचकर, कमर कसकर, छाती में प्राण भरकर जोर लगाओ और मन की दासता को कुचल डालो, बेड़ियाँ तोड़ फेंको । सदैव के लिए इसके शिकंजे में से निकलकर इसके स्वामी बन जाओ । 
-Pujya Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...