Thursday, 29 December 2011

जब आपने व्यक्तित्व विषयक विचारों का सर्वथा त्याग कर दिया जाता है तब उसके समान अन्य कोई सुख नहीं, उसके समान श्रेष्ठ अन्य कोई अवस्था नहीं |
Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...