Wednesday, 9 November 2011

रास्ते चलते जब किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति को देखो, चाहे वह इंग्लैंड़ का सर्वाधीश हो, चाहे अमेरिका का प्रेसिड़ेंट हो, रूस का सर्वेसर्वा हो, चाहे चीन का ड़िक्टेटर हो- तब अपने मन में किसी प्रकार की ईर्ष्या या भय के विचार मत आने दो | उनकी शाही नज़र को अपनी ही नज़र समझकर मज़ा लूटो कि मैं ही वह हूँ |’ जब आप ऐसा अनुभव करने की चेष्टा करेंगे तब आपका अनुभव ही सिद्ध कर देगा कि सब एक ही है |
Pujya asaram ji bapu  :-
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...