Tuesday, 22 November 2011

कोई कोई जोगी बच गये, पारब्रह्म की ओट।
                                          चक्की चलती काल की, पड़ी सभी पर चोट।।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...