Wednesday, 9 November 2011

 बाह्य संदर्भों के बारे में सोचकर अपनी मानसिक शांति को भंग कभी होने दो |
 Pujya asaram ji bapu :-
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...