Wednesday, 28 November 2012

938_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

कभी व्यर्थ की निन्दा होने लगेगी। इससे भयभीत न हुए तो बेमाप प्रशंसा मिलेगी। उसमें भी न उलझे तब प्रियतम परमात्मा की पूर्णता का साक्षात्कार हो जाएगा।
-Pujya Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...