Monday, 19 November 2012

921_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU


बहूनां जन्मनामन्ते ज्ञानवान्मां प्रपद्यते।
वासुदेवः सर्वमिति स महात्मा सुदुर्लभः।।
'बहुत जन्मों के बाद तत्त्वज्ञान को प्राप्त हुआ ज्ञानी पुरुष 'सब कुछ वासुदेव ही है' – इस प्रकार मुझको भजता है। वह महात्मा अति दुर्लभ है।'
(गीताः 7.19)
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...