Monday, 5 November 2012

892_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU



अतीत का शोक और
भविष्य की चिंता
क्यों करते हो?
हे प्रिय !
वर्तमान में साक्षी, तटस्थ और
प्रसन्नात्मा होकर जीयो....
-Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...