Monday, 28 May 2012

565_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

सदा स्मरण रहे कि इधर-उधर भटकती वृत्तियों के साथ तुम्हारी शक्ति भी बिखरती रहती है। अतः वृत्तियों को बहकाओ नहीं। तमाम वृत्तियों को एकत्रित करके साधना-काल में आत्मचिन्तन में लगाओ और व्यवहार-काल में जो कार्य करते हो उसमें लगाओ
 Pujya Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...