Friday, 18 May 2012

527_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

"अपने आत्मदेव से अपरिचित होने के कारण ही तुम अपने को दीन-हीन और दुःखी मानते हो। इसलिए अपनी आत्म-महिमा में जाग जाओ। 
 Pujya Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...