Friday, 28 October 2011

इस सम्पूर्ण जगत को पानी के बुलबुले की तरह क्षणभंगुर जानकर तुम आत्मा में स्थिर हो जाओ | तुम अद्वैत दृष्टिवाले को शोक और मोह कैसे ?
Pujya asaram ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...