Thursday, 20 October 2011

  मन में यदि भय न हो तो बाहर चाहे कैसी भी भय की सामग्री उपस्थित हो जाये, आपका कुछ बिगाड़ नहीं सकती | मन में यदि भय होगा तो तुरन्त बाहर भी भयजनक परिस्थियाँ न होते हुए भी उपस्थित हो जायेंगी | वृक्ष के तने में भी भूत दिखने लगेगा |
प्रातः स्मरणीय परम पूज्य संत श्री आसारामजी बापू :-





















Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...