Monday, 10 October 2011

Pujya asaram ji bapu (प्रातःस्मरणीय पूज्यपाद संत श्री आसारामजी बापू)

सदगुरु जिसे मिल जाय सो ही धन्य है जन मन्य है। 
सुरसिद्ध उसको पूजते ता सम न कोऊ अन्य है॥
अधिकारी हो गुरुदेव से उपदेश जो नर पाय है।
                                                  भोला तरे संसार से नहीं गर्भ में फिर आय है॥
 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...