Saturday, 22 October 2011

हम वासी उस देश के जहाँ पार ब्रह्म का खेल।
                                           दीया जले अगम का बिन बाती बिन तेल।।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...