Wednesday, 26 September 2012

803_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

स्वयं को अन्य लोगों की आँखों से देखना, अपने वास्तविक स्वरूप को न देखकर अपना निरीक्षण अन्य लोगों की दृष्टि से करना, यह जो स्वभाव है वही हमारे सब दुःखों का कारण है |

-Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...