Wednesday, 5 September 2012

764_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

कर्म में अगर यज्ञबुद्धि आ जाय, कर्म में अगर उदारता आ जाय, स्नेह आ जाय तो वह कर्म कर्त्ता को अपने स्वरूप का भान करा देता है।
-Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...