Sunday, 16 September 2012

786_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

गुरु-नाम उच्चारण करने पर गुरुभक्त का रोम-रोम पुलकित हो उठता है चिंताएँ काफूर हो जाती हैं, जप-तप-योग से जो नही मिल पाता वह गुरु के लिए प्रेम की एक तरंग से गुरुभक्त को मिल जाता है, इसे निगुरे नहीं समझ सकते
-Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...