Saturday, 1 September 2012

759_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

आत्म-ध्यान से, आत्म-चिन्तन से भोक्ता की बरबादी रुकती है। भोक्ता स्वयं आनंदस्वरूप परमात्मामय होने लगता है, परमात्मा होना क्या है.... अनादि काल से परमात्मा था ही, यह जानने लगता है।
-Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...