Thursday, 6 September 2012

767_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

चरित्र मानव की श्रेष्ठ संपत्ति है, दुनिया की समस्त संपदाओं में महान संपदा है। पंचभूतों से निर्मित मानव-शरीर की मृत्यु के बाद, पंचमहाभूतों में विलीन होने के बाद भी जिसका अस्तित्व बना रहता है, वह है उसका चरित्र।
-Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...