Tuesday, 11 September 2012

777_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

जितने जन्म-मरण हो रहे हैं वे प्रज्ञा के अपराध से हो रहे हैं। अतः प्रज्ञा को दैवी सम्पदा करके यहीं मुक्ति का अनुभव करो।
 -Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...