Sunday, 16 September 2012

787_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

जो शिष्य सदगुरु का पावन सान्निध्य पाकर आदर व श्रद्धा से सत्संग सुनता है, सत्संग-रस का पान करता है, उस शिष्य का प्रभाव अलौकिक होता है।
-Pujya asharam ji bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...