Friday, 4 May 2012

451_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

बुद्धिमान शिष्य  जानते है कि कितनी भी कठिनाई आ जाये फिर भी आत्मज्ञान पाना ज़रुरी है । गुरु के वचनों का साक्षात्कार करना ज़रूरी है ।
जो बुद्धिमान ऐसा समझता है उसको प्रत्येक मिनट का सदुपयोग करने की रुचि होती है । उसे कहना नहीं पड़ता कि ध्यान करो, नियम करो, सुबह जल्दी उठकर संध्या में बैठो । जो अपनी ज़िन्दगी की कदर करता है वह तत्पर हो जाता है । जिसका मन मूर्ख है और वह खुद मन का गुलाम है, वह तो चाबुक खाने के बाद थोड़ा चलेगा और फिर चलना छोड़ देगा ।

मूर्ख हृदय न चेत
यद्यपि गुरु मिलहीं बिरंचि सम।
भले ब्रह्माजी गुरु मिल जायें फिर भी मूर्ख आदमी सावधान नहीं रहता ।

Pujya Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...