Monday, 29 August 2016

1492_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

अपने गुरुत्वाकर्षण का केन्द्र तुम आप बनो । स्वाश्रयी बनो । अपने भीतर के आधार और अधिष्ठान को पा लो । दूसरों के मत और आलोचना की परवाह मत करो । असत्य, निंदा, चुगलखोरी और कठोरता इन वाणी के पापों से बचो ।

  -Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...