Monday, 1 August 2016

1468_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

सच्चा भक्त अपने किसी अनिष्टकी
आशङ्कासे सन्मार्गका ईश्वर-सेवाका
कदापि त्याग नहीं करता।तन,मन,धन
सभी कुछ प्रभुकी ही तो सम्पति है,फिर
 उन्हें प्रभुके काममें लगा देनेमें अनिष्ट
कैसा?इसीसे यदि असहाय रोगीकी सेवा
करते-करते भक्तके प्राण चले जाते हैं
या भूखे-गरीबोंका पेट भरनेमें भक्तकी
सारी समपति स्वाहा हो जाते है तो वह
 अपने को बड़ा भाग्यवान समझता है।

-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...