Wednesday, 31 August 2016

1494_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

जीवन-शक्ति
 
ईर्ष्या, घृणा, तिरस्कार, भय, कुशंका आदि कुभावों से जीवन-शक्ति क्षीण होती है। दिव्य प्रेम, श्रद्धा, विश्वास, हिम्मत और कृतज्ञता जैसे भावों से जीवन-शक्ति पुष्ट होती है।

   -Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...