Sunday, 24 June 2012

629_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

 रोज प्रातः काल उठते ही ॐकार का गान करो | ऐसी भावना से चित्त को सराबोर कर दो कि : मैं शरीर नहीं हूँ | सब प्राणी, कीट, पतंग, गन्धर्व में मेरा ही आत्मा विलास कर रहा है | अरे, उनके रूप में मैं ही विलास कर रहा हूँ | ’ भैया !  हर रोज ऐसा अभ्यास करने से यह सिद्धांत हृदय में स्थिर हो जायेगा
 Pujya Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...