Thursday, 7 June 2012

586_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

'पद्म पुराण में आया हैः
ये वदन्ति नरा नित्यं हरिरित्यक्षरद्वयम्।
तस्योच्चारणमात्रेण विमुक्तास्ते न संशयः।
'जो मनुष्य परमात्मा के दो अक्षरवाले नाम 'हरि' का उच्चारण करते हैं, वे उसके उच्चारणमात्र से मुक्त हो जाते हैं, इसमें शंका नहीं है।'
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...