Tuesday, 19 June 2012

613_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

मन ही मनुष्य के बंधन और मोक्ष का कराण है । शुभ संकल्प और पवित्र कार्य करने से मन शुद्ध होता है, निर्मल होता है तथा मोक्ष मार्ग पर ले जाता है । यही मन अशुभ संकल्प और पापपूर्ण आचरण से अशुद्ध हो जाता है तथा जडता लाकर संसार के बन्धन में बांधता है । 

Pujya Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...