Tuesday, 5 June 2012

581_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

काहे एक बिना चित्त लाइये ?
ऊठत बैठत सोवत जागत, सदा सदा हरि ध्याइये।
हे भाई ! एक परमात्मा के अतिरिक्त अन्य किसी से क्यों चित्त लगाता है ? उठते-बैठते, सोते-जागते तुझे सदैव उसी का ध्यान करना चाहिए।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...