Thursday, 29 October 2015

1354_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

गुरूः एक महान पथप्रदर्शक
 
 जो आत्मज्ञान का मार्ग दिखाते हैं वे पृथ्वी पर के सच्चे देव हैं। गुरू के सिवाय यह मार्ग कौन दिखा सकता है ?   गुरू को शिष्य की सेवा या सहाय का आवश्यकता नहीं है किन्तु सेवा के द्वारा विकास करने के लिए वे शिष्य को एक मौका देते हैं।

Guru as the Great Guide 
 
 He who teaches the way of Knowledge is a veritable Divinity on earth. Except Guru who could show the way ? The Guru does not require any service or help from the disciple, but he gives a chance to the disciple to evolve by serving him. 

 - Sri Swami Sivananda
Guru  Bhakti Yog, Sant Shri Asharamji Ashram
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...