Sunday, 25 October 2015

1351_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU





आध्यात्मिक प्रवृत्ति की आवश्यकता

गुरू के पवित्र चरणों के प्रति भक्तिभाव सर्वोत्तम गुण है। इस गुण को तत्परता एवं परिश्रमपूर्वक विकसित किया जाए तो इस संसार के दुःख और अज्ञान के कीचड़ से मुक्त होकर शिष्य अखूट आनन्द और परम सुख के स्वर्ग को प्राप्त करता है।


Need For Spiritual Preoccupation
Devotion to the holy feet of Guru is the cardinal virtue, which, if assiduously cultivated, transports a disciple from the morass of misery and ignorance to the paradise of perennial joy and bliss supreme.  


- Sri Swami Sivananda
Guru  Bhakti Yog, Sant Shri Asharamji Ashram
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...