Tuesday, 30 September 2014

1252_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU


सुख-दुःखों की बौछारें होती रहें परन्तु वे आत्मज्ञानी को अपने स्वरूप से कभी विचलित नहीं कर सकतीं।
-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...