Saturday, 20 September 2014

1249_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

एकाग्रता और अनासक्ति ये – दो हथियार जिसके पास आ जायें, वह अनपढ़ हो चाहे साक्षर हो, धनवान हो चाहे निर्धन हो, सुप्रसिद्ध हो चाहे कुप्रसिद्ध हो, वह ब्रह्म-परमात्मा में टिक सकता है।
-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...