Thursday, 16 May 2013

1107_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

प्रभु का दर्शन माधुर्य देने वाला है, आह्लाद देने वाला है, पापों का नाशक है, परन्तु आत्म-साक्षात्कार तो आखिरी मंजिल है, मनुष्य जीवन का अन्तिम प्राप्तव्य है। जिसे तत्त्वज्ञान हो गया उसे कुछ भी पाना शेष नहीं रहा।

-Pujya Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...