Monday, 24 June 2013

1134_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU



अपने हृदय-मंदिर में बैठे हुए अन्तरात्मारूपी परमात्मा को प्यार करते जाओ। इसी समय परमात्मा तुम्हारे प्रेमप्रसाद को ग्रहण करते जायेंगे और तुम्हारा रोम-रोम पवित्र होता जायगा। कल की चिन्ता छोड़ दो।

 -Pujya Asharam Ji Bapu

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...