Tuesday, 19 April 2016

1423_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

सर्वत्र एक ब्रह्म

मैं भी नहीं और मुझसे अलग अन्य भी कुछ नहीं | साक्षात् आनन्द से परिपूर्ण, केवल, निरन्तर और सर्वत्र एक ब्रह्म ही है | उद्वेग छोड़कर केवल यही उपासना सतत करते रहो |

-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...