Saturday, 24 May 2014

1213_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

 


जब आप ईर्ष्या, द्वेष, छिद्रान्वेषण, दोषारोपण, घृणा और निन्दा के विचार किसीके प्रति भेजते हैं तब साथ-ही-साथ वैसे ही विचारों को आमंत्रित भी करते हैं | जब आप अपने भाई की आँख में तिनका भोंकते हैं तब अपनी आँख में भी आप ताड़ भोंक रहे हैं
 -Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...