Sunday, 28 February 2016

1378_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

अलख पुरुष की आरसी, साधु का ही देह ।
लखा जो चाहे अलख को। इन्हीं में तू लख लेह ।।


किसी भी देश की सच्ची संपत्ति संतजन ही होते है । ये जिस समय आविर्भूत होते हैं, उस समय के जन-समुदाय के लिए उनका जीवन ही सच्चा पथ-प्रदर्शक होता है ।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...