Saturday, 30 July 2016

1466_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

उत्तिष्ठ कौन्तेय

पेड़ पर एक कीड़ा चड़ रहा है । हवा का झोंका आया और गिर पड़ा । फिर उसने चढ़ना शुरु किया । हवा का दूसरा झोंका आया और फिर गिर पड़ा । ऐसे वह कीड़ा सात बार गिरा और चढ़ा । आखिर वह आठवीं बार में चढ़ गया ।यह तो संदेश है । एक साधारण कीड़ा अपने लक्ष्य पर पहुँच जाता है और मैं इन्सान होकर पीछे हट जाऊँ?

-Pujya Sant Shri Asharam Ji Bapu

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...