Wednesday, 30 September 2015

1328_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU




गुरूभक्तियोग में शारीरिक, मानसिक, नैतिक और आध्यात्मिक- हर प्रकार के अनुशासन का समावेश हो जाता है। इससे मनुष्य आत्पप्रभुत्व पा सकता है एवं आत्म-साक्षात्कार कर सकता है।

Guru-Bhakti Yoga includes every discipline, physical, mental, moral and spiritual which leads to Self-mastery and Self-realisation.

  - Sri Swami Sivananda

Guru  Bhakti Yog, Sant Shri Asharamji Ashram

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...